आखिरकार इंदौर में मैट्रो के ट्रायल में बारह किमी दूरी तय हुई

आखिरकार इंदौर में मैट्रो के ट्रायल में बारह किमी दूरी तय हुई

भोपाल। इस माह की 25 तारीख को होने वाले संभावित ट्रायल से पहले ही इंदौर में प्रदेश्‍ की पहली मैट्रो का ट्रायल हो ही गया । यह ट्रायल काफी उत्‍साहजनक रहा। हालांकि जानकारी के मुताबिक इंदौर में बुधवार को हुआ यह पहली बार मेट्रो का डायनामिक टेस्ट था। यह डायनामिक टेस्ट गांधी नगर स्टेशन से सुपर कॉरिडोर स्टेशन नंबर 3 तक ट्रायल रन के 5.9 किलोमीटर के हिस्से में पूरा किया गया। इस दौरान पहली बार गांधी नगर डिपो से वायडक्ट चले और मेट्रो प्लेटफार्म पर पहुंची। वापस भी आई, इस हिसाब से देखा जाये तो करीब 12 किलोमीटर का सफर तय हुआ। डायनामिक टेस्ट के तहत मेट्रो कोच बुधवार को 2 बजे मेट्रो डिपो से रवाना हुए। इस दौरान कोच की फिटनेस व ट्रैक की फिटनेस परीक्षण भी हुआ। 8 से 9 किलोमीटर प्रतिघंटा की गति से चलाए गए।
ऐसे हो रहा रात दिन काम –
बता दें कि गांधी नगर डिपो और आसपास में मेट्रो से जुड़ी टेक्निकल टीम तीन शिफ्ट में काम कर रही है। मौजूदा स्थिति यह है कि 5.9 किमी के ट्रायल रन के लिए ट्रैक तैयार हो चुका है। इसके लिए वड़ोदरा से आए तीन कोच को असेम्बल किए गए हैं। कुछ दिन पहले ही सिक्योरिटी ट्रायल किया जा चुका है।
बीते माह आये थे कोच –
29 अगस्त को मेट्रो के तीन कोच इंदौर पहुंचे थे जबकि 30 सितम्बर को इन्हें पटरी पर लाया गया था। इसके बाद इन तीनों कोच को डिपो में इंस्पेक्शन बे लाइन पर लाकर खड़ा किया गया। फिर एक हफ्ते तक यहां कोच को जोड़ने के साथ इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल व सॉफ्टवेयर पर काम चला जो लगभग खत्म हो गया है। दूसरी ओर 5.9 किलो मीटर के ट्रायल रन के रास्ते में आने वाले पांचों स्टेशन का काम चल रहा है।
अब भोपाल में है इंतजार –
इंदौर में मैट्रो के ट्रायल के बाद अब सबकी निगाहें भोपाल मेट्रो पर टिकी हैं। हालांकि यहां भी 25 सितंबर को ट्रायल होना बताया गया है लेकिन इंदौर में जिस तेज गति से काम हुआ उसको लेकर भोपाल मेट्रो की चर्चा तेज हो गई है।

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button