असम राइफल्स ने 4200 करोड़ रुपये से अधिक के अवैध दवाओं को किया जब्त, चार सालों से चल रहा अभियान

गुवाहाटी
असम राइफल्स को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। पिछले चार सालों में असम राइफल्स ने 4200 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य की अवैध दवाओं को जब्त किया है। असम राइफल्स के महानिदेशक पीसी नायर ने कहा कि असम राइफल्स ने पिछले चार वर्षों में अंतरराष्ट्रीय बाजार में 4,200 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य की दवाएं जब्त की हैं।  इंटरव्यू में महानिदेशक ने कहा, "सीमा की रक्षा करने के अलावा, असम राइफल्स ने अवैध दवाओं और अवैध हथियारों के खिलाफ अपना अभियान जारी रखा है। असम राइफल्स ने पिछले चार वर्षों में 4,267 करोड़ रुपये की दवाएं जब्त की हैं।"

महानिदेशक पीसी नायर ने कहा कि “हमें यह सभी प्रतिबंधित सामग्री पकड़ने में काफी हद तक सफलता मिली है। 2020 में, हमने 875 करोड़ रुपये की अवैध दवाएं जब्त कीं थी। साल 2021 में 1402 करोड़ रुपये की दवाएं जब्त की गईं, और वर्ष 2022 में 855 करोड़ रुपये की दवाएं जब्त हुईं थी। साल 2021 और 2022 के बीच थोड़ा अंतर हो सकता है क्योंकि उस वक्त भारत-म्यांमार सीमा पर लड़ाई चल रही थी, जहां म्यांमार की सेना पीडीएफ (पीपुल्स डिफेंस फोर्स), सीएनए के खिलाफ लड़ रही थी और उस वजह से दवाओं और सभी प्रकार के प्रतिबंधित सामग्री में कमी आई थी।"

इस साल असम राइफल्स ने 1135 करोड़ रुपये की ड्रग्स जब्त की
डीजी ने आगे कहा कि इस साल असम राइफल्स ने 1,135 करोड़ रुपये की ड्रग्स जब्त की है। असम राइफल्स के महानिदेशक ने आगे कहा, "बड़ी संख्या में आधुनिक हथियार और उपकरण भी खरीदे गए हैं। इन हथियारों में थर्मल इमेजर, नाइट विजन डिवाइस, बुलेटप्रूफ जैकेट, हल्के बुलेटप्रूफ हेलमेट, ड्रोन, खदान सुरक्षा वाहन, गैर- घातक हथियार आदि शामिल है।" नायर ने आगे कहा, ''ये सभी पिछले 2-3 वर्षों में खरीदे गए हैं।''

'महिला सैनिक कर रही हैं अभूतपूर्व काम'
असम राइफल्स में महिला सैनिकों की भागीदारी के बारे में बात करते हुए, डीजी असम राइफल्स ने कहा कि हमारी 45 महिला सैनिक वर्तमान में सूडान और कांगो में संयुक्त राष्ट्र मिशनों में शामिल हैं। हमारी दो बटालियनें जम्मू-कश्मीर में हैं। महिला सैनिक अभूतपूर्व काम कर रही हैं। उनकी तैनाती के बाद, घुसपैठ के संदर्भ में जम्मू-कश्मीर में कई बदलाव हुए हैं।'' 

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button