मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लिया क्रांतिकारी फैसला

d

मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को 7250, सहायिकाओं को 6500 वेतन मिलेगा
लोक सेवा केंद्रों में फीस घटाकर 20 रुपये करने का ऐलान
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नया मध्य प्रदेश बनाने के लिए नागरिकों को दिलाया संकल्प
कांग्रेस पर साधा निशाना— कांग्रेस ने सभी योजनाएं बंद की थी, मैं सभी चालू कर रहा हूं
हर बहन की आमदनी हर महीने 10 हजार रुपये की जाएगी
कोई गरीब झोपड़ी में न रहे इसके लिए सीएम आवास योजना बनाएंगे
पीएम आवास योजना में छूटे लोगों को सीएम आवास योजना से मकान बनाकर देंगे
1 किलो वॉट बिजली जलाने वाले का बिजली बिज माफ
अगले महीने जीरो आएगा बिजली बिल
उसके बाद हर महीने सिर्फ 100 रुपये बिजली बिल आएगा

सीधी। मध्य प्रदेश की मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को अब हर महीने 7250 रुपये मानदेय दिया जाएगा, इसके साथ ही सहायिकाओं को 6500 रुपये महीने दिये जाएंगे। यह क्रांतिकारी ऐलान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीधी जिला में किया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीधी मेडिकल कॉलेज के भूमिपूजन के साथ ही जिले के लिए 176 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का लोकार्पण एवं भूमिपूजन किया। मुख्यमंत्री ने जिला मुख्यालय में जनदर्शन यात्रा निकाली और लाड़ली बहना सम्मेलन को भी संबोधित किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि लोक सेवा केंद्रों में सेवा लेने के लिए अभी नागरिकों को 40 रुपये देने पड़ते हैं, इसे घटाकर 20 रुपये कर दिया जाएगा। नए मध्य प्रदेश के निर्माण का संकल्प दिलाते हुए मुख्यमंत्री ने नागरिकों से कहा कि कांग्रेस से बचकर रहना। कांग्रेस ने सभी योजनाएं बंद की थी, मैं सभी चालू कर रहा हूं। बच्चों को लैपटॉप, बहनों को 1 हजार रुपये, भांजियों की शादी के लिए रुपये देना बंद करने वाली कांग्रेस सरकार को याद रखना। भाजपा की सरकार ही बनाना। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि हमारी भाजपा सरकार का लक्ष्य हर बहन की आमदनी हर महीने 10 हजार रुपये करना है। अभी लाड़ली बहनों को 1 हजार रुपये मिल रहे हैं। अक्टूबर से 1250 रुपये खाते में आएंगे, जल्दी ही इसे 3 हजार किया जाएगा। सभी को घर देने की बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई गरीब झोपड़ी में न रहे इसके लिए सीएम आवास योजना बनाएंगे। पीएम आवास योजना में छूटे लोगों को सीएम आवास योजना में शामिल करके मकान बनाकर दिये जाएंगे। सीएम शिवराज ने कहा कि 1 किलो वॉट बिजली जलाने वाले का बिजली बिज माफ कर दिया गया है। अगले महीने बिजली बिल जीरो आएगा। उसके बाद हर महीने सिर्फ 100 रुपये बिल ही आएगा।

सीधी जिले को दिया यह तोहफा

सेमरिया को नगर परिषद बनाया जाएगा
सीधी में एक और सीएम राइज स्कूल खोला जाएगा
हनुमानगढ़ उप तहसील को तहसील बनाया जाएगा
35 गांवों में लिफ्ट इरीगेशन से खेतों में पानी पहुंचाया जाएगा

अब प्रदेश में 31 मेडिकल कॉलेज
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को सीधी मेडिकल कॉलेज का भूमिपूजन किया। यह मेडिकल कॉलेज 100 MBBS सीटर होगा। कांग्रेस सरकार पर हमलावर होते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि वर्ष 2003 तक प्रदेश में केवल 5 मेडिकल कालेज ही थे। आज प्रदेश में मेडिकल कालेजों की संख्या बढ़कर 31 हो रही है।
लाड़ली बहना योजना ने मध्य्रपदेश में भाजपा सरकार, शिवराज के चेहरे पर बढ़ाया भरोसा

हैडिंग –

१- लाड़ली बहनों की ‘मेरे भैया ‘ वाली आवाज से शिवराज की वापसी की दस्तक

२- बहनों के वोट से मध्यप्रदेश में भाजपा को मध्यप्रदेश में 150 से ज्यादा सीट की उम्मीद

3 – लाड़ली बहना के जरिये मध्यप्रदेश में 25 फीसदी वोट सीधे भाजपा की झोली में

4 – जानिये कैसे, एक करोड़ बहने बन गई है शिवराज भैया की स्टार प्रचारक

५- इस गणित से यदि भाजपा को वोट मिले तो 170 सीटें भी मुश्किल नहीं

6 – आखिर क्यों बहनों को शिवराज पर भैया जैसा भरोसा पर कमलनाथ को पूरी तरह नाकारा

7 – जानिये वो गणित जिससे शिवराज सरकार बहुमत से कहीं ज्यादा सीटें हासिल करेगी

भोपाल। मध्यप्रदेश की एक सभा। एक लाख के करीब महिलायें। पंडाल से एक सुर में आवाज गूँज रही -मेरे भैया। यानी शिवराज भैया। लाड़ली बहनों के भैया। भांजियों के मामाजी। मेरे भैया की ये गूँज अगली बार फिर शिवराज सरकार की दस्तक देती दिखाई देती है। लाड़ली बहना योजना मध्यप्रदेश फिर भाजपा सरकार की वापसी का रोडमैप तैयार करती दिख रही है। प्रदेश में लगभग 5 करोड़ 40 लाख मतदाता हैं। लाड़ली बहनों की पंजीकृत संख्या करीब एक करोड़ 25 लाख है, और लगभग सभी मतदाता है। यानी कुल मतदाताओं का 25 फीसदी। ये 25 फीसदी शिवराज सरकार को अगले चुनाव में 150 से ज्यादा सीटें दिलवा सकती हैं।

लाड़ली बहना के सामने कांग्रेस की नारी सम्मान योजना है। भाजपा के एक हजार रुपये (अब 1250) कांग्रेस ने 1500 रुपये का ऐलान किया। है। बावजूद इसके जनता के बीच उसकी चर्चा ज्यादा है। इस बारे में राजनीतिक विश्लेषकों कहना है कि जनता चेहरे पर भरोसा करती है।,कागज़ी पुर्जों पर नहीं। मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान वो चेहरा बन चुके हैं जिनपर जनता खासकर आर्थिक कमजोर और महिला वर्ग को बेहद भरोसा है। वे उन्हें वादा निभाने वाले अपने बीच के आदमी लगते हैं, जबकि कांग्रेस के कमलनाथ का सीधे जनता से कोई जुड़ाव नहीं है। वे एक उद्योगपति की छवि में कैद हैं। ऐसे में लाड़ली बहना के करीब एक करोड़ वोट शिवराज के चेहरे को मिलने की सम्भावना ज्यादा है। कांग्रेस की नारी सम्मान योजना कही भी इस दौड़ में नहीं दिखती।

‘लाड़ली बहना’ से शिवराज की वापसी का गणित

मध्य्रपदेश में जिस तरह से लाड़ली बहना योजना का रेस्पोंस है, उसने कांग्रेस की पूरी रणनीति को बैकफुट पर कर दिया है। आइये समझते हैं लाड़ली बहना का मतदान से गणित

– कुल एक करोड़ 25 लाख लाड़ली बहना का पंजीयन, इन्हे अब 1250 रुपये प्रतिमाह मिल रहे।
– एक करोड़ 25 लाख मे से आधे वोट भी यदि भाजपा को मिलते हैं तो ये होंगे करीब 50 लाख वोट।
– पचास लाख वोट यानी कुल मतदाताओं का करीब दस फीसदी।
– इस पचास लाख वोट यदि पिछले चुनाव के वोटिंग ट्रेंड्स 70 फीसदी मतदान से देखें तो ये आंकड़ा कुल मतदान का करीब 15 फीसदी होगा।
– मध्यप्रदेश में भाजपा कांग्रेस के बीच वोट परसेंटेज का अंतर एक से तीन फीसदी ही अब तक रहा है।
– ऐसे में 15 फीसदी वोट की बढ़त मध्य्रपदेश में सरकार की करीब तीस से पैंतीस फीसदी सीट में इजाफा करेगी।

एक करोड़ से ज्यादा लाड़ली बहना बनी सरकार के प्रचारक

इस योजना को बारीकी से देखेंगे तो ये सिर्फ सवा करोड़ महिलाओं के वोट का मामला नहीं है। ये महिलायें धीरे-धीरे करके मध्यप्रदेश भाजपा और ‘अपने भैया शिवराज ‘ की प्रचारक बन गई हैं। ये महिलाएं अपने परिवार और मिलने जुलने वालों से भी भाजपा को वोट देने और उसकी नीतियों की तारीफ़ कर रही हैं। करीब एक फीसदी का अंतर प्रचार भी करेगा।

विशेष – परिवार साथ आया तो 170 सीटें भी संभव
लाड़ली बहना योजना से लाभान्वित [परिवार भी शिवराज और भाजपा को वोट देने का मन बनाता दिख रहा हैं। यानी एक लाड़ली बहना से करीब तीन वोट जुड़े हैं। यदि ये होता है तो भाजपा को 170 सीटें भी मिल सकती है।

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button