युगांडा के क्रिकेटरों ने क्रिकेट में तय किया लंबा सफर, अब वर्ल्ड क्रिकेट खेलने को बेताब

युगांडा के क्रिकेटरों ने क्रिकेट में तय किया लंबा सफर, अब वर्ल्ड क्रिकेट खेलने को बेताब

अब तक 21 टी-20 मैचों में 34 विकेट ले चुके मियागी झुग्गियों में बड़े हुए और अभी भी अपने परिवार के साथ वहीं रहते हैं टी-20 वर्ल्ड कप में शामिल सिमोन सेसाजी और रिजर्व खिलाड़ी इनोसेंट एमवेबाजे भी झुग्गी से ही निकले हैं उनके इलाकों में पीने का साफ पानी सीवेज की व्यवस्था नहीं थी और ना ही स्वास्थ्य सुविधाएं थी।

युगांडा की राजधानी कंपाला में करीब 60 प्रतिशत आबादी झुग्गियों में रहती है और तेज गेंदबाज जुमा मियागी उनके लिए प्रेरणास्त्रोत हैं फुटबॉल के शौकीन यहां के निवासी उनकी वजह से चाव से क्रिकेट देखते हैं और आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप में युगांडा क्रिकेट टीम का डेब्यू उनके लिए किसी सपने से कम नहीं।

मियागी कंपाला के बाहरी इलाके में नागुरू झुग्गी बस्ती में बड़े हुए. दो साल तक युगांडा की अंडर-19 टीम के लिए खेलने के बाद अब वह एक जून से वेस्टइंडीज और अमेरिका में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप में सीनियर टीम की गेंदबाजी की कमान संभालेंगे. युगांडा ने पिछले साल नवंबर में पहली बार क्रिकेट वर्ल्ड कप के लिए क्वालीफाई किया।

अब तक 21 टी-20 मैचों में 34 विकेट ले चुके मियागी झुग्गियों में बड़े हुए और अभी भी अपने परिवार के साथ वहीं रहते हैं टी-20 वर्ल्ड कप में शामिल सिमोन सेसाजी और रिजर्व खिलाड़ी इनोसेंट एमवेबाजे भी झुग्गी से ही निकले हैं उनके इलाकों में पीने का साफ पानी, सीवेज की व्यवस्था नहीं थी और ना ही स्वास्थ्य सुविधाएं थी।

उनकी कठिनाइयों की कहानी ने युगांडा के भारतीय कोच अभय शर्मा को भी विचलित कर दिया, जो टी-20 वर्ल्ड कप से पहले ही टीम के साथ जुड़े है ऐसा नहीं है कि शर्मा ने कभी झुग्गी बस्ती देखी नहीं है, लेकिन झुग्गियां मुंबई की धारावी से अलग है खिलाड़ियों के साथ समय बिताकर शर्मा का उनके प्रति सम्मान कई गुना बढ़ गया

Back to top button