यासीन मलिक की रिहाई के लिए बेताब हो रहा पाकिस्तान, गुहार लेकर पहुंचा सऊदी क्राउन प्रिंस के दरबार

 कश्मीर

कश्मीर में आतंक मचाने वालों के लिए पाकिस्तान का दिल वक्त वक्त पर धड़कने लगता है। पाकिस्तान का हमेशा से यह मंसूबा रहा है कि जम्मू कश्मीर में हमेशा अशांति फैली रहे। आतंकवाद और कश्मीरी अलगाववादियों को साथ पाकिस्तान ने हमेशा दिया है। अब जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के अध्यक्ष यासीन मलिक को छुड़ाने के लिए पाकिस्तान का दिल मचल रहा है। पाकिस्तान के इशारे पर यासीन मलिक एक विश्वसनीय सहयोगी राजा मुजफ्फर ने सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से हस्तक्षेप करने और भारत में कैद कश्मीरी नेता की जान बचाने की अपील की। संयुक्त राज्य अमेरिका में रहने वाले और हाल ही में जेकेएलएफ के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में चुने गए मुजफ्फर ने भारत के साथ सऊदी अरब के अनुकूल राजनयिक संबंधों को मान्यता देते हुए यासीन मलिक की रिहाई को लेकर लेटर लिखा है।

मुजफ्फर का यह लेटर ऐसे समय पर आया जब 11 सितंबर को क्राउन प्रिंस की दिल्ली यात्रा करने वाले हैं। इस विजिट के लिए पीएम मोदी ने उन्हें विशेष रूप से आमंत्रित किया है। अपील में कहा गया है, "कश्मीर के लोग क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से ईमानदारी से अपील करते हैं कि वे प्रतिष्ठित कश्मीरी नेता मुहम्मद यासीन मलिक के जीवन की रक्षा के लिए अपने राजनयिक प्रभाव का उपयोग करें।"

वाशिंगटन में सऊदी दूतावास के माध्यम से भेजी गई अपील से पता चलता है कि मुजफ्फर ने कश्मीर मुद्दे के शांतिपूर्ण समाधान तलाशने के लिए भारत और पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्रियों के साथ बैठकों के अलावा, संयुक्त राज्य अमेरिका की अपनी यात्राओं के दौरान अमेरिकी अधिकारियों से भी मुलाकात की।

बता दें मलिक को अनुच्छेद 370 को निरस्त करने से पहले भारत सरकार द्वारा गिरफ्तार किया गया था और उस पर आतंकवाद का साथ देने के अलावा कई और संगीन इल्जाम हैं, जिसके परिणामस्वरूप मलिक को आजीवन कारावास की सजा हुई। भारतीय अधिकारियों द्वारा मलिक की सजा को बढ़ाकर मृत्युदंड तक करने की अपील दायर की गई है। मुजफ्फर ने सऊदी प्रिंस को लिखे लेटर में भारत के इस कदम को अत्यधिक और अन्यायपूर्ण माना है।

मुजफ्फर ने लेटर में लिखा, "अफसोस की बात है कि भारत में मुस्लिम विरोधी भावनाओं में उछाल के बीच, इस बात की बहुत कम उम्मीद है कि जेल में बंद कश्मीरी नेता को निष्पक्ष सुनवाई मिलेगी। उनका (यासीन मलिक का) जीवन अब गंभीर खतरे में है, न केवल कश्मीर के दोनों क्षेत्रों में बल्कि व्यापक वैश्विक कश्मीरी मुस्लिम समुदाय के लिए भी।"

मुजफ्फर ने लेटर में 1963 में रियाद में दिवंगत सऊदी शासक शाह फैसल और दिवंगत कश्मीरी नेता शेख अब्दुल्ला के बीच हुई ऐतिहासिक मुलाकात को भी याद करता है। बता दें भारत लौटने पर शेख अब्दुल्ला को भारत सरकार ने गिरफ्तार कर लिया था। इसके अलावा, उनका लेटर शेख अब्दुल्ला की रिहाई और 1964 में पाकिस्तान के साथ बातचीत के उनके बाद के मिशन में सऊदी सरकार द्वारा निभाई गई महत्वपूर्ण भूमिका पर जोर डालता है।

 

One Comment

  1. This article really resonated with me. The points made were compelling. Id love to hear more opinions. Check out my profile for more!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button