वाणिज्य मंत्रालय लैपटॉप, कंप्यूटर के आयातकों को सुचारू तरीके से लाइसेंस देने को लेकर काम कर रहा है

नई दिल्ली
 वाणिज्य मंत्रालय की शाखा डीजीएफटी लैपटॉप और कंप्यूटर के आयातकों को सुचारू तरीके से लाइसेंस प्रदान करने के लिए मानदंड तैयार करने पर काम कर रही है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

सरकार ने लैपटॉप, टैबलेट व अन्य पीसी उत्पादों के आयात के लिए लाइसेंस को अनिवार्य करने का आदेश जारी किया है। यह कदम विदेशी उपकरणों में हार्डवेयर में सुरक्षा संबंधी खामियां होने के अलावा घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देने के मकसद से भी उठाया गया है। इन वस्तुओं के आयात के लिए एक नवंबर से विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) से लाइसेंस/अनुमति लेनी होगी।

अधिकारी ने कहा, ‘‘हम लाइसेंस के मुद्दे पर काम कर रहे हैं। इसका मकसद आयात के लिए लाइसेंस प्राप्त करना आसान बनाना है।''

इसी तरह के मामलों में पहले भी लाइसेंस देने के लिए किसी कंपनी के पिछले प्रदर्शन आदि पर गौर किया गया है।

आयात पर अंकुश से भारत को उन स्थानों पर कड़ी नजर रखने में मदद मिलेगी जहां से उत्पाद आ रहे हैं।

शोध संगठन ग्लोबल ट्रेड रिसर्च इनिशिएटिव (जीटीआरआई) ने भी कहा था कि आयातकों को लाइसेंस देने के लिए सरकार को वस्तुनिष्ठ मानदंडों की घोषणा करनी चाहिए।

जीटीआरआई) के सह-संस्थापक अजय श्रीवास्तव ने कहा था, ‘‘निजी कम्प्यूटर, लैपटॉप और टैबलेट हमें शिक्षा, व्यवसाय, मनोरंजन और बाकी सूचनाओं से जोड़ते हैं। सरकार को आपूर्ति में कमी और बाजार व्यवधान से बचने के लिए सभी कदम उठाने चाहिए।''

उन्होंने कहा, ‘‘इसका एक तरीका वस्तुनिष्ठ मानदंड की घोषणा करना है, जो लाइसेंस देने का आधार बनेगा।''

ग्रैडकैपिटल ने छात्रों के स्टार्टअप के लिए 60 लाख डॉलर का कोष किया जारी

नई दिल्ली
बेंगलुरु स्थित वेंचर कैपिटल फंड ग्रैडकैपिटल ने छात्रों के स्टार्टअप में निवेश के लिए 60 लाख डॉलर (करीब 49 करोड़ रुपये) का अपना दूसरा कोष जारी किया है। कंपनी की ओर से जारी बयान के अनुसार, छात्रों द्वारा स्थापित कंपनियों में चार प्रतिशत इक्विटी पर 40,000 डॉलर (33 लाख रुपये) का निवेश किया जाएगा।

ग्रैडकैपिटल के सह-संस्थापक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अभिषेक सेठी ने कहा, ‘‘हम सौदे खोजने और उनमें निवेश करने के व्यवसाय में नहीं हैं। हम चुनौतीपूर्ण शिक्षा प्रणाली के बावजूद छात्रों को अधिक महत्वाकांक्षी बनने तथा भविष्य बनाने का मौका देने के व्यवसाय में हैं। छात्रों के क्वांटम कंप्यूटर के बजाय डी2सी कंपनी शुरू करने की अधिक संभावना है और हमें इसकी अधिक जरूरत है।''

बयान के अनुसार, चयनित उद्यमी बेंगलुरु में चार सप्ताह के समूह कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। चार सप्ताह के कार्यक्रम में एथर एनर्जी के सह-संस्थापक तरुण मेहता, रेजरपे के सह-संस्थापक शशांक कुमार और जेरोधा के मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी कैलाश नध के साथ बैंठकें शामिल हैं।

बजाज ऑटो की बिक्री अगस्त में 15 प्रतिशत घटी

मुंबई
बजाज ऑटो की अगस्त में कुल बिक्री सालाना आधार पर 15 प्रतिशत घटकर 3,41,648 इकाई रह गयी। कंपनी ने अगस्त 2022 में 4,01,595 इकाइयों की बिक्री की थी।

बजाज ऑटो लिमिटेड की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, अगस्त 2022 में बेची गई 2,56,755 इकाइयों की तुलना में पिछले महीने कुल घरेलू बिक्री 20 प्रतिशत गिरकर 2,05,100 इकाई रह गई।

अगस्त में कुल वाहन निर्यात सालाना आधार पर छह प्रतिशत गिरकर 1,36,548 इकाई रह गया, जो एक साल पहले की समान अवधि में 1,44,840 इकाई था। पिछले महीने दोपहिया वाहनों की कुल बिक्री 20 प्रतिशत घटकर 2,85,031 इकाई रह गई, जो अगस्त 2022 में 3,55,625 इकाई थी।

हालांकि, अगस्त 2023 में दोपहिया वाहनों का निर्यात दो प्रतिशत बढ़कर 1,24,211 इकाई हो गया, जो पिछले साल इसी महीने में 1,21,787 इकाई था।

 

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button