Aditya L1 Mission आज आदित्य L1 भरेगा 15 लाख KM की उड़ान

 श्रीहरिकोटा

चांद के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान 3 की ऐतिहासिक लैंडिंग के बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन  (इसरो) एक बार फिर इतिहास रचने की दहलीज पर है.  अब देश के साथ-साथ विश्व देश की निगाहें ISRO के सूर्य मिशन यानी Aditya-L1 पर टिकी हैं. इसका काउंटडाउन भी शुरू हो गया है. मिशन आज सुबह 11.50 बजे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्पेस स्टेशन से लॉन्च किया जाएगा.  लॉन्चिंग के ठीक 127 दिन बाद यह अपने पॉइंट L1 तक पहुंचेगा.

'ISRO और भारत के लिए यह बहुत बड़ा कदम', लॉन्चिंग पर बोले इसरो के पूर्व

 ISRO के पूर्व वैज्ञानिक मनीष पुरोहित ने कहा कि इसरो और भारत के लिए यह बहुत बड़ा कदम है. देश की नई अंतरिक्ष नीति के साथ यह स्पष्ट है कि इसरो स्पेस इकोनॉमी में बहुत बड़ी भूमिका निभाएगा. इसलिए इसरो ने स्पष्ट रूप से इस दिशा में बड़ा कदम उठाया है.

16 दिन धरती के चारों तरफ चक्कर लगाएगा आदित्य-L1

 16 दिनों तक आदित्य-L1 धरती के चारों तरफ चक्कर लगाएगा. इस दौरान पांच ऑर्बिट मैन्यूवर होंगे, ताकि सही गति मिल सके. इसके बाद आदित्य-L1 का ट्रांस-लैरेंजियन 1 इंसर्शन (Trans-Lagrangian 1 Insertion – TLI) होगा. फिर यहां से उसकी 109 दिन की यात्रा शुरू होगी. जैसे ही आदित्य-L1 पर पहुंचेगा, वह वहां पर एक ऑर्बिट मैन्यूवर करेगा. ताकि L1 प्वाइंट के चारों तरफ चक्कर लगा सके.

वैज्ञानिक तौर बहुत फायदेमंद साबित होने वाला है मिशनः इसरो के पूर्व वैज्ञानिक

आदित्य एल1 मिशन पर, पद्मश्री पुरस्कार विजेता और इसरो के पूर्व वैज्ञानिक मायलस्वामी अन्नादुराई ने कहा, "एल1 बिंदु तक पहुंचना और उसके चारों ओर एक कक्षा में लगातार घूमना तकनीकी रूप से बहुत ही चुनौती भरा है. इसके साथ ही बेहद सटीक पॉइंट पर पांच वर्षों तक लगातार सर्वाइव करना भी बहुत चुनौतीपूर्ण है. यह वैज्ञानिक रूप से बेहद फायदेमंद होने वाला है क्योंकि सात उपकरण,  उन घटनाओं को जानने-समझने की कोशिश करेंगे कि वहां क्या हो रहा है.

रहस्यों से पर्दा उठाएगा मिशन

1. सूर्य वायुमंडल के तापमान से जुड़ी गतिविधियों पर नजर।

2. यूवी पेलोड और एक्स-रे पेलोड से सूर्य किरणों की निगरानी

3. सौर्य वायुमंडल में गर्मी के रहस्य से जुड़ी जानकारी मिलेगी

4. अंतरिक्ष के तापमान में सूर्य व किरणों की भूमिका क्या है

5. सूर्य की भौगोलिक और पर्यावरण से जुड़ी स्थिति पर नजर

आदित्य एल1 मिशन के सफल लॉन्च के लिए सूर्य नमस्कार

 उत्तराखंड: इसरो के आदित्य एल1 मिशन के सफल लॉन्च के लिए दून योग पीठ के केंद्रों पर आध्यात्मिक गुरु आचार्य बिपिन जोशी की मौजूदगी में सूर्य नमस्कार और विशेष पूजा की गई।

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button